ऐसा लगा जैसे घर पर ही हूँ


मैंने आपका वेब पेज देखा.दो साल से मैं घर नही आ पाई हूँ.बहुत दिनों के बाद मधेपुरा की तस्वीरें देखी.ऐसा लगा जैसे घर पर ही हूँ.आपसे रिक्वेस्ट है कि कुछ और करेंट तस्वीरें और न्यूज डालिए.अगर हो सके तो अपडेट किया कीजिए.हमें बहुत खुशी होगी.
           --जूही शाहाब, पुणे

3 comments:

akshay.nd.love said...

me too...

Abhishek said...

हर रूप मे यह अख़बार हमे मधेपुरा की याद दिलाता है कही मधेपुरा की फोटो और कही जाना पहचाना चेहरा एक धीमी सही मुश्कान ले ही आती है निश्चय ही या प्रयाश एक मील का पथर साबित होगा I
लेकिन ठोरी मेहनत की और जरुरत है सभी चीजो को ठीक करने की और ठोरी खूबसूरती बढ़ाने की उम्मीद है आप जल्द ही ठीक कर लेंगेI I मेरी हार्दिक सुभ कामना आपसबो के साथ है ...
Abhishek Goutam
New Delhi

mukesh said...

kya dharna pradarshan hi ek matra saadhan hai apni maang puri karwane ka?

Post a Comment